बेटियां अभिमान है, बेटियां मान है!

हम कब तक तमाशा देखेंगे
हम कब तक तमाशा देखेंगे
अन्याय रोकना हैअब हमेअपनेसम्मान का
सम्मान अब हम करना भलू गए
सम्मान बचना भी भलू गए
कन्या दान कि या पर अब दया दि खाना भलू गए हम कब तक बेटि यों का अभि मान रखना भी भलू गए
इज़्ज़त हमारी-आपकी हैबेटि यां
क्यो अरमान रखना छोड़ दि ये
हम कब जागेंगेइस नींद से
हम कब तक सोनेदेंगेचनै से
हम मांकी पजू ा और आराधना करतेहैं
बचाओ बेटि यों को बेटी बचाओ अभि यान करतेहैं
अब नहींलायेगा कोई परि वर्तनर्त अब हमको क़दम उठाना है इस ज़मानेमेंतभी परि वर्तनर्त आना है
हमारेदेश मेंबेटि यों को बचानेके लि ए जागो अब सोना जब सो लि या अब जग को जगना है
बचाओ बेटि यों को, बेटी बचाव अभि यान हम चलातेहैं पहचान हैइनसेहमारा, जन्म दाता भी यही हमारा
हमारेवतन मेंहो यह सपना परूा
बेटी,बहूऔर मां,बहन का हो सम्मान परूा
प्रण करेंहम बेटि यों को बचानेके लि ए
हमारेदेश के बेटि यांकब तक तमाशा बनेंगी
काननू नहींबदला तो,हमेंहैबदलव लाना
बेटि यां हमारी कल और आज है,कल का बदलव जरूरी है
अभी नहींजागेतो, फि र कब जागेंगेअब उठो और आगेबढ़ो अब हैबाचना अपनी बेटि यों को मजबरूी मेंनहीं हैअब जीना
अब एक होकर, एक ताल मेंक़दम बढ़ना
अब अन्ति म परि वर्तनर्त के लि ए कदम उठाना है

Leave a Reply

Your email address will not be published.